शायरी – तेरे बिन हम दिलजले कभी चैन नहीं पाएंगे

prevnext

ये करवटों के सिलसिले कभी खत्म हो न पाएंगे
तेरे बिन हम दिलजले कभी चैन नहीं पाएंगे

ऐ चांद फासला बढ़ा, इतना कि तुम खो जाओ
तेरी हसीन चांदनी में उन्हें हम भूल नहीं पाएंगे

बरसात के मौसम में शराबें तो पी ली हमने
क्या खबर थी भीगकर हम नशे में रह नहीं पाएंगे

आखिर किसी मुकाम पर मेरे मंजिल का निशां होगा
तेरी ऊंगली थामे बिना वहां तक चल नहीं पाएंगे

©RajeevSingh

One thought on “शायरी – तेरे बिन हम दिलजले कभी चैन नहीं पाएंगे”

Comments are closed.