शायरी – रात ढलती है तो ढलने की दुआ दो इसको

love shyari next

रात ढलती है तो ढलने की दुआ दो इसको
सांस चलती है तो रुकने की दुआ दो इसको

तेरा दुश्मन तेरा दीवाना बना बैठा है
इस जमाने से उठने की दुआ दो इसको

धार सावन की निकलती है तेरी आंखों से
मेरे दरिया में बहने की दुआ दो इसको

एक साया सा तड़पता है जो चिराग तले
आग में डूबके मरने की दुआ दो इसको

©RajeevSingh # दीवानगी शायरी

One thought on “शायरी – रात ढलती है तो ढलने की दुआ दो इसको”

Comments are closed.