जख्म शायरी

शायरी – अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है

अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है अक्लवालों की महफिल में रोना अब नामुमकिन है जिंदगी की हर गजल में लिखता रहा मैं दर्द को जाने कब गम खत्म होगा कहना अब नामुमकिन है
love shyari next

अच्छा दिल और सच्ची आंखें मिलना अब नामुमकिन है
अक्लवालों की महफिल में रोना अब नामुमकिन है

जिंदगी की हर गजल में लिखता रहा मैं दर्द को
जाने कब गम खत्म होगा कहना अब नामुमकिन है

प्यास नहीं कुछ पाने का और भूख नहीं है जीने का
इस छाती में दुख दुनिया का उठना अब नामुमकिन है

एक मुकम्मल इंसां बनना तन्हाई की मंजिल है
नर-नारी के इस दलदल में जीना अब नामुमकिन है

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply