दर्द लव शायरी

शायरी – इस बदनसीब के इश्क में तुझे डूबकर भी क्या मिला

शायरी मेरे साथ गर्दिश में रहे, मेरे संग-संग रोते रहे इस बदनसीब के इश्क में तुझे डूबकर भी क्या मिला ये जिगर लहू से भर गया जब जख्म भी रिसने लगे मेरे आंसुओं को रोककर इस नजर को भी क्या मिला

love shayari hindi shayari

मुझे टूटकर क्या मिला, तुझे रूठकर भी क्या मिला
जब बेवफा ही नसीब हो तब रोकर भी क्या मिला

अब आग से हम दूर हैं पर खाक के तो पास हैं
ठंढ़ी हुई है चिता मेरी, मुझे जलकर भी क्या मिला

मेरे साथ गर्दिश में रहे, मेरे संग-संग रोते रहे
इस बदनसीब के इश्क में तुझे डूबकर भी क्या मिला

ये जिगर लहू से भर गया जब जख्म भी रिसने लगे
मेरे आंसुओं को रोककर इस नजर को भी क्या मिला

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

One comment

Leave a Reply