इश्क क्या है

शायरी – रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया

शायरी रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया आस्मा के मंजर में एक दर्द गूंजकर खो गया गमजदा सूरत पे देखो मायूसी के साये हैं जबसे हमको छोड़ गए हो, हुस्न हमारा खो गया

love shayari hindi shayari

रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया
आस्मा के मंजर में एक दर्द गूंजकर खो गया

गमजदा सूरत पे देखो मायूसी के साये हैं
जबसे हमको छोड़ गए हो, हुस्न हमारा खो गया

इश्क की बेताब लहरें बहुत सताती हैं हमें
बहते आंसू ये कहते हैं, वो समंदर खो गया

अब मेरी दीवानगी की इंतहा तो हो चुकी
ये निगाहें बुझ गई और ये जुबां भी खो गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply