बेवफा शायरी

शायरी – मेरे दिल का तुझे खयाल नहीं

मेरे दिल का तुझे खयाल नहीं इस जनाजे को ही यादकर जाओ रोकना चाहूं तो मैं तुझे कैसे रोकूं जो मुझे तुम गैर समझकर जाओ

love shayari hindi shayari

जानेवाले मुझे तुम बुझाकर जाओ
हो सके तो फिर से जलाकर जाओ

मेरे आंचल का एक-एक रेशा-रेशा
खींचकर एक कफन बुनकर जाओ

मेरे दिल का तुझे खयाल नहीं
इस जनाजे को ही यादकर जाओ

रोकना चाहूं तो मैं तुझे कैसे रोकूं
जो मुझे तुम गैर समझकर जाओ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply