खामोशी शायरी

शायरी – मेरी खामोशी में सिवा तेरे भला क्या मिलता

शायरी गूंजती है तेरी आवाज ही जिस्मो-जां में मेरी खामोशी में सिवा तेरे भला क्या मिलता जहां मातम ही मनाता हो बंदगी में कोई ऐसे मंदिर में कोई दीप भला क्या मिलता

love shyari next

पत्थरों पे सर पटकने के सिवा क्या मिलता
एक समंदर को बिलखने से भला क्या मिलता

दश्त में चिड़िया भटकती रही तन्हा-तन्हा
इस घनी रात में उसे नीड़ भला क्या मिलता

गूंजती है तेरी आवाज ही जिस्मो-जां में
मेरी खामोशी में सिवा तेरे भला क्या मिलता

जहां मातम ही मनाता हो बंदगी में कोई
ऐसे मंदिर में कोई दीप भला क्या मिलता

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply