शायरी – जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए

love shyari next

हम तेरी मुहब्बत में आफताब बन गए
जिसमें न धुंआ हो वो आग बन गए

उगते रहे हैं शूल भी सीने की जमीं से
जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए

अब देखना दुनिया को न हो सका मुमकिन
तुम मेरी निगाहों पे नकाब बन गए

हम आज तक छुपाते रहे राज ए मुहब्बत
न जाने तुम किस तरह हमराज बन गए

राज ए मुहब्बत- मुहब्बत के राज, secret of love

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

5 thoughts on “शायरी – जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए”

  1. Jindagi mohtaaj nahi manjilo ki
    Marta nahi koi kisi se juda ho ker
    Waqt jina sikha deta hai

    Like

  2. फुल के बिना काँटे नही।
    जो दुसरो को दर्द देते वो रोते नही।
    आप याद करे या ना करे कोई बात नही।
    हम आप के यादों के बिना सोते नही।
    MR.VEER.KUMAR.SINGH

    Like

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.