मेरे इश्क से गिला हुआ इमेज शायरी

मेरा इश्क इमेज शायरी

जो बहार से दगा करे वो खिजां से क्या वफा करे
बेदर्द इस तकदीर को मेरे इश्क से भी गिला हुआ

इश्क से गिला करने से होता क्या है, दर्द को दिल में रखने से होता क्या है, जब उन तक ही मोहब्बत का पैगाम न पहुंचे, तो खत को आंसुओं में भिगोने से होता क्या है। इमेज शायरी।

Leave a Reply