जख्मी दिल शायरी

शायरी – जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे

जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे ऐसे दीवाने से आखिर क्यूँ कोई प्यार करे रेत प्यासा सा तड़पता है हर साहिल पे कितनी सदियों से वो लहरों का इंतजार करे

prevnext

जो भी दुनिया में मुहब्बत पे जाँनिसार करे
ऐसे दीवाने से आखिर क्यूँ कोई प्यार करे

रेत प्यासा सा तड़पता है हर साहिल पे
कितनी सदियों से वो लहरों का इंतजार करे

बाँटते रहते हैं वफा वो कई किश्तों में
बेवफाई का यहाँ जो भी कारोबार करे

चाहता हूँ, तेरे दामन का किनारा तो मिले
दिल भी आख़िर ये फरियाद कितनी बार करे

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

One comment

Leave a Reply