आशिक शायरी

शायरी – तेरे पास आशिक के लिए कुछ नहीं बचता है

सारी दुनिया में मेरा नाम जो भी सुनता है पहले हंसता है फिर दीवाना मुझे कहता है तुमको फुरसत ना मिली कर्ज को चुकाने से तेरे पास आशिक के लिए कुछ नहीं बचता है

love shayari hindi shayari

सारी दुनिया में मेरा नाम जो भी सुनता है
पहले हंसता है फिर दीवाना मुझे कहता है

तुमको फुरसत ना मिली कर्ज को चुकाने से
तेरे पास आशिक के लिए कुछ नहीं बचता है

तोड़ ना पायी तुम पत्थर के इन दीवारों को
दिल तेरा आशियां के कब्र में ही मरता है

रुख हवाओं का जाने कब बदल जाएगा
मौसमे-बेवफाई में दिल का दीया जलता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply