लैला शायरी

शायरी – पास आता है तो मैं खुद को भूल जाती हूं

दूर जाता है तो वो मुझको भूल जाता है पास आता है तो मैं खुद को भूल जाती हूं ऐसा अक्सर होता है रातों में सनम नींद आती है मगर सोना भूल जाती हूँ

love shyari next

दूर जाता है तो वो मुझको भूल जाता है
पास आता है तो मैं खुद को भूल जाती हूं

ऐसा अक्सर होता है रातों में सनम
नींद आती है मगर सोना भूल जाती हूं

ले गया दिल, जाने कब लौटाकर देगा
सामने आता है तो माँगना भूल जाती हूं

इस शहर में तेरा कोई अपना रहता है
उस परदेशी को ये बताना भूल जाती हूं

©©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply