दर्द भरे शायरी

शायरी – मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

महसूस करेगा वो मेरे दर्द की जुबाँ मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ पतझड़ की बारिशों में वो भीग गया है अब धूप के लिए जलाएगा आशियाँ

prevnext

महसूस करेगा वो मेरे दर्द की जुबाँ
मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

पतझड़ की बारिशों में वो भीग गया है
अब धूप के लिए जलाएगा आशियाँ

लाएगा रंग इश्क ये उसमें इस तरह
अपनी चिता के वास्ते खोजेगा लकड़ियाँ

अपने ही लहू से लिखेगा मेरा नाम
अपने ही खंजर से तराशेगा ऊंगलियाँ

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

One comment

Leave a Reply