शायरी – भटकता हूँ मैं आकाश में एक गजल के लिए

love shayari hindi shayari

भटकता हूं मैं आकाश में एक गजल के लिए
निहारूं चांद-सितारों को एक गजल के लिए

कदम जमीन पे चलते हैं निगाहों के बिना
ठोकरें खाता हूं मैं राहों में एक गजल के लिए

मुहब्बत भी करता हूं, बेवफा भी बनता हूं
फिर जोगी भी बन जाता हूँ एक गजल के लिए

एक शहर है, एक दरिया है, मेरे शामों में
रोज तन्हा वहां बैठता हूँ एक गजल के लिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

One thought on “शायरी – भटकता हूँ मैं आकाश में एक गजल के लिए”

  1. Kyo hasta h ensan Rone ke bad. Jeena fir bhi padta h Sab kuchh khone ke bad. Socha aaj sabko yad karle kya pta aan
    kh hi na khule aaj sone ke bad . pavan from ,U.p

    Like

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.