शायरी – जब-जब सितम तूने किया, हम सह गए दिल खोल कर

love shayari hindi shayari

मुझे देखकर मुंह फेर लो, ऐसी भी क्या तेरी बेरुखी
महफिल में दूर-दूर हो, ऐसी भी क्या तेरी बेबसी

मुड़के जो देखती हो तुम, मजबूर हो क्यूं दिल से तुम
मुझे इस तरह न तलाश कर कि बदनाम हो दीवानगी

जब-जब सितम तूने किया, हम सह गए दिल खोल कर
जालिम है तेरी हर अदा, कातिल है तेरी आशिकी

खत की तरह खामोश तुम, तेरा हुस्न ही मजमून है
तेरे नैनों पे गजल लिखी, तेरे नक्श में है शायरी

मजमून- खत के अंदर लिखी बातें

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari