शायरी – ये तेरी उदासी को किसी ने न मिटाया

love shayari hindi shayari

बस्ती में आज चांद छत पर नहीं आया
रब जाने कब हटेगा अमावस का साया

मंजर है इस फिजा का तनहाइयों में डूबा
अश्कों के सितारों से ही रातों को सजाया

जिसे देखना मेरी जिंदगी का एक सपना है
वो ही फकत शरमाके आंखें न मिलाया

कब तेरे लबों पर तबस्सुम की लहर हो
ये तेरी उदासी को किसी ने न मिटाया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements