शायरी – प्यासा है तू बरसों बरस से

love shayari hindi shayari

उसी मोड़ पे क्यूं आया मुसाफिर
जहां पर मैं पहले से ही खड़ी थी
पल भर में तुमसे इश्क हुआ था
पल भर ही तो निगाहें लड़ी थी

तुझे देखकर मुझे ऐसा लगा था
कि प्यासा है तू बरसों बरस से
आंखों में शबनम, जुबां पे खामोशी
सूरत में तेरे उदासी जड़ी थी

तूने भी मुझको नजर भर के देखा
मैंने भी तुमको जरा डर के देखा
कुछ तेरी आंखों में हमने पढ़ी थी
कुछ मेरी आंखों ने तुमसे कही थी

अगर मेरा तुमसे है कोई मरासिम
तो आओ चलें हम हसीं सफर पे
नहीं थी खबर ऐ नादां मुसाफिर
हमारे भी किस्मत में ऐसी घड़ी थी

मरासिम – संबंध

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari