शायरी – दिल के शीशे पे दुनिया में पत्थर बरसे

love shayari hindi shayari

दिल के शीशे पे दुनिया में पत्थर बरसे
टूटकर आईने के आंसू भी अक्सर बरसे

जितने तन्हा थे कल उतने आज भी हैं
रोज अपने ही मुकद्दर को कोसकर बरसे

जा रहे थे मगर रस्ते में कोई न मिला
जो मुझे अपने सीने से लगाकर बरसे

कौन दुनिया में आखिर प्यार करेगा तुझे
फूल पे भी जहां गुलशन में नश्तर बरसे

नश्तर – कांटे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari