शेरो शायरी

शायरी – कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं

शायरी कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं फिर एक-एक कर वो सब टूट जाते हैं देखकर जिंदगी को हम ये समझ न सके जिसको पाते हैं उसे छोड़ क्यूं मर जाते हैं

love shayari hindi shayari

कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं
फिर एक-एक कर वो सब टूट जाते हैं

देखकर जिंदगी को हम ये समझ न सके
जिसको पाते हैं उसे छोड़ क्यूं मर जाते हैं

आईनों पे ये इल्जाम भी लगाया जाए
ये हमें जिस्म के भंवर में ले जाते हैं

वो हमें साफ-साफ कह देते तो अच्छा था
मगर हां करके भी वो बेवफा हो जाते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

One comment

Leave a Reply