शेरो शायरी

शायरी – जाने क्या कहानी है जो खत्म नहीं होती

शायरी अपनी जुबां तो खोलिए जब राहों में हैं मिलते हम थक चुके हैं आपको सलाम करते-करते मेरी निगाहें देखिए, दो उदास झील हैं बस मुरझा गए हैं कितने ही कंवल खिलते-खिलते

love shayari hindi shayari

अपनी जुबां तो खोलिए जब राहों में हैं मिलते
हम थक चुके हैं आपको सलाम करते-करते

मेरी निगाहें देखिए, दो उदास झील हैं बस
मुरझा गए हैं कितने ही कंवल खिलते-खिलते

जाने क्या कहानी है जो खत्म नहीं होती
ये उम्र गुजर जाए आपको पढ़ते-पढ़ते

महसूस ये होता है हर रोज मेरे दिल में
एक चांद सा जलता है हर शाम ढलते-ढलते

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply