जख्मी दिल शायरी

शायरी – दर्द लिखता है तेरे हुस्न के कयामत को

तेरी सूरत ने संवारे थे आईने मेरे तेरी खामोशी ने तोड़ा है दीवाने को

new prev new next

दर्द लिखता है तेरे हुस्न की कयामत को
दिल तड़पता है तेरे दर्द में मर जाने को

हर अमावस पे जब चांद नहीं दिखता है
मैं तरसता हूं निगाहों का नूर पाने को

तेरी सूरत ने संवारे थे आईने मेरे
तेरी खामोशी ने तोड़ा है दीवाने को

शाम तेरी बुझी निगाहों सी आती है
हम आए हैं तेरी पलकों में डूब जाने को

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply