महबूबा शायरी

शायरी – नादान हसरतें आपके दिल और हमारे दिल में

शायरी भूल से भी जिंदगी को नाराज न कीजिए कभी लीजिए आ गई नशे में घुली रात अभी नादान हसरतें आपके दिल और हमारे दिल में फिर दूरियों में न गुजर जाए रात अभी

love shayari hindi shayari

भूल से भी जिंदगी को नाराज न कीजिए कभी
लीजिए आ गई नशे में घुली रात अभी
नादान हसरतें आपके दिल और हमारे दिल में
फिर दूरियों में न गुजर जाए रात अभी

सूर्ख चादर सा फैला है गुलाबों की जमीं
ख्वाबों की महक से फिजा रोशन है अभी
शब पे छायी है हर तरफ मदहोश हवाएं
नींद से बढ़के जगने का हसीन पहर है अभी

कशमकश होती ही रहती है सदा दिल में आपके
सीधे-सीधे मेरी बातों को मान लीजिए अभी
खर्च कर दें आज हम अपनी सारी ख्वाहिशें
बंदिशों की दीवार गिराने का मौसम है अभी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply