शायरी – भूला हुआ कोई जख्म नस में तड़प उठे

love shyari next

पास अंधेरा रहे और मैं तन्हा रहूं
कोई जुगनू जले तो मैं भी संग जलूं

भूला हुआ कोई जख्म नस में तड़प उठे
याद नहीं आता फिर भी मैं रो पड़ूं

कितना भी दर्द जगे, उफ्फ ना मैं करूं
कोई क्या जानेगा, आहें भी जो मैं भरूं

जीने की ख्वाहिश थी लेकिन अब नहीं है
शिकवा भी तुमसे आखिर मैं क्यूं करूं

©RajeevSingh

Advertisements

2 thoughts on “शायरी – भूला हुआ कोई जख्म नस में तड़प उठे”

Leave a Reply