महबूब शायरी महबूबा शायरी dilkash shayari

शायरी – सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह

दो आईने को देखकर देखा किया तुझे तेरी आंखों में डूबकर देखा किया तुझे सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह खामोशियों से बोलकर देखा किया तुझे

love shyari next

दो आईने को देखकर देखा किया तुझे
तेरी आंखों में डूबकर देखा किया तुझे

सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह
खामोशियों से बोलकर देखा किया तुझे

लहरें तो आके रूक गईं साहिल को चूमकर
आंसू पलक में रोककर देखा किया तुझे

तेरी उदासियों में तस्वीर है मेरी
ये सोचके बस एकटक देखा किया तुझे

©RajeevSingh

Advertisements

8 comments

Leave a Reply