शायरी – तेरी जुल्फों में सजा गुलाब यही कहता है

love shayari hindi shayari


मेरी नम आंख से रोशन सा धुआं उठता है
सीने में कहीं मेरे गम का दीया जलता है

सामने आते हो पर पलकें उठाते हो नहीं
तेरी इस हया से मेरा दर्द जनम लेता है

ये आवाज मेरी दीवारों से टकराती रही
गम मेरा तन्हा ही आशियां में रह जाता है

मैं फूल हूं कोई अंधेरों में खिला हुआ
तेरी जुल्फों में सजा गुलाब यही कहता है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements