शायरी – कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं

love shayari hindi shayari

कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं
फिर एक-एक कर वो सब टूट जाते हैं

देखकर जिंदगी को हम ये समझ न सके
जिसको पाते हैं उसे छोड़ क्यूं मर जाते हैं

आईनों पे ये इल्जाम भी लगाया जाए
ये हमें जिस्म के भंवर में ले जाते हैं

वो हमें साफ-साफ कह देते तो अच्छा था
मगर हां करके भी वो बेवफा हो जाते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

One thought on “शायरी – कुछ बरस तक जवानी में ख्वाब आते हैं”

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.