शायरी – नजर की लाज बच गई तुझे देखके ऐ जानेजां

love shayari hindi shayari

ईमान से वो गिर गए पर उठ गए बेईमान से
शैतान जो पर्दे में थे, वो पूजे गए इंसान से

पत्थर से पूछ बैठे हम आईनों के हाले-दिल
उनका जवाब आया कि लगते हो तुम नादान से

करवट बदलता रह गया ये रोशनी आठों पहर
सब देखो परेशान हैं जीवन की सुबहो शाम से

नजर की लाज बच गई तुझे देखकर ऐ जानेजां
वरना मैं तो नाराज था बेवफाओं के जहान से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

One thought on “शायरी – नजर की लाज बच गई तुझे देखके ऐ जानेजां”

Comments are closed.