शायरी – हमें तो कत्ल होना था जिस कमसिन के खंजर से

love shyari next

हमें तो कत्ल होना था जिस कमसिन के खंजर से
देखिए जख्म खाके लौटे हैं उस जालिम के शहर से

अरे एक बात कहनी थी वही तो कह नहीं पाया
वो भी तस्वीर थी कोई, हम भी आदम थे पत्थर से

हमें भी दर्द होता है, कभी हम रो भी लेते हैं
कई लहरें भी उठती हैं मेरे सहरा के मंजर से

चलो एक बार जो बिछड़ी, दुबारा मिल न पाएगी
यही आशिक की किस्मत है, जुदा होते हैं दिलबर से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari