शायरी – गुनाह कुबूल है मुझे, तुमसे इश्क किया है हमने

love shayari hindi shayari

अपने हर आह की दास्तां अर्ज किया है हमने
अपने हर जुर्म का बयां दर्ज किया है हमने

मुजरिम हुआ ऐ हुस्न, सूली पे लटका दो मुझे
गुनाह कुबूल है मुझे, तुमसे इश्क किया है हमने

मेरे गजल सुबूत हैं, देख लो ऐ दिल के मालिक
अपने हर आंसू की कीमत वसूल किया है हमने

तेरे दर पे मुझे कुछ न मिलेगा, ये जानकर भी
इस दिल के सहारे तेरी बंदगी किया है हमने

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari