शायरी – मेरी उल्फत को बेवफाई का ही नाम दे दो

love shyari next

और कुछ न सही, मुझको ये इल्जाम दे दो
मेरी उल्फत को बेवफाई का ही नाम दे दो

जख्म और दर्द तुझे पाकर मिट सा गया
जानेवाले मुझे रोने का सामान दे दो

हम गुजरे हैं तेरी आरजू की गलियों से
मेरे ख्वाबों को टूट जाने का अरमान दे दो

बेखबर तू है तो मैं होश में क्यूं रहता हूं
ऐ मेरे दिल, मुझे मौत का फरमान दे दो

©RajeevSingh # love shayari