यादें शायरी रिश्ता शायरी

शायरी – जब कभी महसूस होता है सीने में दर्द सा

खोना था जिसको आंखों से, खो गया सो खो गया

आंसू तो फिर मिल जाएंगे, बह गया सो बह गया

 

जिंदगी के रास्तों में चांद ठहरा था फलक पर

हम भी तन्हा थे रातों में, वो भी तन्हा रह गया

 

जब कभी महसूस होता है सीने में दर्द सा

सोचता हूं फूल में कांटा कहां से आ गया

 

कोशिश की बुझने की तो आप आके जला गए

दिल मेरा जलता रहा, आपका साया खो गया

Advertisements

Leave a Reply