खामोशी शायरी

शायरी – जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे

शायरी जुल्फ की ओट में कोई अमावस सा नजर आया जब उसे देखा तो एक चांद बुझता सा नजर आया कौन सुनसान सी राहों पे तन्हा चल रहा था कल गौर से देखा तो मेरा ही साया सा नजर आया

love shayari hindi shayari

जुल्फ की ओट में कोई अमावस सा नजर आया
जब उसे देखा तो एक चांद बुझता सा नजर आया

कौन सुनसान सी राहों पे तन्हा चल रहा था कल
गौर से देखा तो मेरा ही साया सा नजर आया

जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे
वही आखिर में सीने को चुभता सा नजर आया

तुम्हारा दर्द ही सहके हम उस मंजिल पे आ पहुंचे
जहां से आगे का रस्ता खोता सा नजर आया

बहुत उम्मीद है हमसे जमाने को मगर ऐ दिल
जमाने में जीना ही मुश्किल सा नजर आया

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

Leave a Reply