शायरी – तेरे आईने में शख्स वो, जो आके बस गया

बतला दे मुझको ऐ हसीं तू क्यूं उदास है

छलक रही तेरी सूरत से ये कैसी प्यास है

 

किस दर्द की तलाश में रोता है तेरा दिल

वो कौन है जो आज भी न तेरे पास है

 

एक लफ्ज़ ने बेचैन सा है तुझको कर दिया

तू किसका नाम ले रही, जो इतना खास है

 

तेरे आईने में शख्स वो, जो आके बस गया

ये जान लो कि उसको भी तेरी तलाश है

Advertisements

Leave a Reply