माशूक शायरी

शायरी – तेरे इक नजर से हाय मैं बर्बाद हो गई

तू किस शहर से आया है ऐ दिल के बादशाह अरमानों को जगाया है ऐ दिल के बादशाह तेरे इक नजर से हाय मैं बर्बाद हो गई मुझे इश्क में फना किया ऐ दिल के बादशाह

new prev new shayari pic

तू किस शहर से आया है ऐ दिल के बादशाह
अरमानों को जगाया है ऐ दिल के बादशाह

तेरे इक नजर से हाय मैं बर्बाद हो गई
मुझे इश्क में फना किया ऐ दिल के बादशाह

अब और न तड़पा मुझे ऐ मेरे कातिल
मर जाऊंगी मैं तेरे बिन ऐ दिल के बादशाह

ये महल लग रहा है मुझे सोने का पिंजरा
मेरे रूह को आजाद कर ऐ दिल के बादशाह

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

Leave a Reply