शायरी – मायूस हुआ जब वो, लोगों ने नहीं पूछा

मुरझाया हुआ फूल सर झुकाए हुए है

अपने बदन को दुख से सुखाए हुए है

 

वो दे चुका है दुनिया को रंग औ खुशबू

कुर्बानियों पे जिंदगी लुटाए हुए है

 

कहता नहीं है कुछ भी, जो भी किया उसने

खामोशियों में खुद को छिपाए हुए है

 

मायूस हुआ जब वो, लोगों ने नहीं पूछा

तितली भी उससे दूरी बनाए हुए है

Advertisements

Leave a Reply