शायरी – राह चलते रहे लेकिन तुझे याद करते रहे

मुड़के देखा था कई बार हमने तुमको

हाय पुकारा नहीं एक बार तुमने हमको

 

राह चलते रहे लेकिन तुझे याद करते रहे

हर कदम पे मिले फासले मेरे दिल को

 

मेरी तकदीर भी टूटी हुई तस्वीर ही थी

जो सजा बैठा तन्हा से दीवारो-दर को

 

हम तरसते हैं आंखों के आईने के लिए

किसे दिखलाएंगे तेरे सिवा अब हम इसको

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.