शायरी – सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

love shayarihindi shayari

अपना हर एक दर्द हमने, लिख दिया, लिख दिया
तुमने दिल जो-जो कहा, कर दिया, कर दिया

सुबह से शाम तलक और रात भर ये हुआ
सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

मैं भला क्यूं जाउंगा, भीड़ भरी राहों पे
लाशों के जुलूस से मैं, डर गया, डर गया

बस्तियों से अब उजड़के आ गया तन्हाई में
इश्क के इस आशियां में, रह गया, रह गया

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s