शायरी – सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

love shayarihindi shayari

अपना हर एक दर्द हमने, लिख दिया, लिख दिया
तुमने दिल जो-जो कहा, कर दिया, कर दिया

सुबह से शाम तलक और रात भर ये हुआ
सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

मैं भला क्यूं जाउंगा, भीड़ भरी राहों पे
लाशों के जुलूस से मैं, डर गया, डर गया

बस्तियों से अब उजड़के आ गया तन्हाई में
इश्क के इस आशियां में, रह गया, रह गया

©RajeevSingh #love shayari