शायरी – वफा की दरिया न बह सकी इस दुनिया में

वफा की दरिया न बह सकी इस दुनिया में

किसी सागर से न मिल सकी इस दुनिया में

 

कितने तरकीब हैं लोगों में जीने के लिए

हमें तो एक भी न मिल पायी थी इस दुनिया में

 

मैं किनारे पे ही मुंतजिर रह जाता हूं

कोई कश्ती ही न मिल सकी इस दुनिया में

 

अपनी तन्हाई में जिसको मैं लिखा करता हूं

वो गजल भी न मिल सकी इस दुनिया में

Advertisements

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s