शायरी – अपनी आंखों और होठों में प्यास दबाए जीती हूं

new prev new next

बदन की गलियों में जब तेरी आहट होती है
मेरे होठों पर दबी-दबी मुस्कुराहट होती है

तू मुसाफिर सा मन की राहों पे आता है
तुझे रोक इश्क करने की चाहत होती है

अपने जिस्म में एक प्यास दबाए जीती हूं
तेरे खयालों के समंदर से ये प्यास बढ़ती है

जहां भी रहूं दिल में तेरी सूरत रहती है
जहां भी जाऊं बस तेरी ही याद होती है

©RajeevSingh

Advertisements

One thought on “शायरी – अपनी आंखों और होठों में प्यास दबाए जीती हूं”

  1. जेहा भी रहु तेरी याद हेमसा शाथ रहती कया बताऊ

Leave a Reply