दिल छूने वाली शायरी

शायरी – दर्द की रोशनी बाकी है मेरे दिल में अभी

मेरे आंसुओं को पोछे हैं जिस आंचल ने उसका दामन मुझे खाली सा नजर आता है

new prev new next

जो खामोशी से सुलगता हो किसी पत्थर में
वो आफताब तन्हा सा नजर आता है

मेरे आंसुओं को पोछे हैं जिस आंचल ने
उसका दामन मुझे खाली सा नजर आता है

दर्द की रोशनी बाकी है मेरे दिल में अभी
जलती शम्मा में अब चांद नजर आता है

किसी रेगिस्तां की तलाश में भटकता है जो
वही प्यासा मुझे दीवाना नजर आता है

आफताब – सूरज

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply