शायरी – प्रीत में जोगन बन जाऊंगी मैं

new prev new next

प्रीत में जोगन बन जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

घर की दीवारें तो तोड़े नाही टूटे
अपनी देहरी मोसे जाने कब छूटे
पिंजरे को तजके उड़ जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

नगरी में आके पिया तोरे दर पे
धूनी रमाऊंगी मैं दिल की अगन से
हवन की लकड़ी बन जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply