शायरी – बस तेरा प्यार मांगने तेरे पास मैं आया हूं

new prev new next

तेरे आंचल को आंखों से लगा लूं जरा
हाले-दिल तुमको सुनाकर मैं रो लूं जरा

मेरे दिल में एक दरिया है मुहब्बत का
तेरे आंचल की जमीं पर उसे बहा दूं जरा

बस तेरा प्यार मांगने तेरे पास मैं आया हूं
अपने दामन को तेरे दर पे फैला लूं जरा

अब तो मरना भी है बस तेरे ही दर पे
अपने आंचल को मेरा कफन बना दो जरा

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply