शायरी – मुहब्बत की हिफाजत मैं करना जानता हूं

love shayari hindi shayari

मैं अपनी राह को भी नहीं पहचानता हूं
किसी मंजिल पे जाके न रुकना जानता हूं

सुना ले तू भी अपने दिल की कोई कहानी
फकत दिल की जुबां ही मैं सुनना जानता हूं

किसी दुनिया में जाकर तुझे न भूल पाऊं
मुहब्बत की हिफाजत मैं करना जानता हूं

निगाहे-दर्द में भी थमा है अश्क आकर
इसे खामोश रहके मैं पीना जानता हूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

Leave a Reply