शायरी – रातों में दर्द का बस ये कसूर होता है

love shayari hindi shayari

रातों में दर्द का बस इतना कसूर होता है
तेरी याद में आंखों का रोना जरुर होता है

मेरे सामने तू कुछ कह सकता नहीं
दिल से आखिर तू कितना मजबूर होता है

ऐसा लगता है मैं पागल हो जाऊंगी
ऐ खुदा इश्क में ये कैसा दस्तूर होता है

रास्तों पे चलते हुए रह जाती हूं तन्हा
तेरा दामन मुझसे जाने कितनी दूर होता है

©RajeevSingh # love shayari

 

 

Advertisements

Leave a Reply