शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है

love shayari hindi shayari

समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है

तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल
उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है

उसकी बाहों में खुशियों के मोती है
वह भी गहरी सी, गुमसुम सी लगती है

मासूम जज़्बातों के लहू से बनी है वो
उसकी परछाई तेरे पानी सी लगती है

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

Leave a Reply