गम भरे शायरी

शायरी – हम तो अब तक तुझे सीने से लगा न सके

कोई तजरबा न मिला है मुझे जीवन से टूटने की घड़ी थोड़ी सी अभी बाकी है

new prev new next

दर्द की रात थोड़ी सी अभी बाकी है
रोने की रात थोड़ी सी अभी बाकी है

तेरे कूचे ने तेरे दीदार को तरसाया है
इश्क में ये कसर थोड़ी सी अभी बाकी है

हम अब तक तुझे सीने से लगा न सके
बस ये तकलीफ थोड़ी सी अभी बाकी है

कोई तजरबा न मिला है मुझे जीवन से
टूटने की घड़ी थोड़ी सी अभी बाकी है

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply