शायरी – हुस्न है जैसे एक कयामत और बला उसका अफसाना

love shayari hindi shayari

कलम चले हैं उसके खातिर, लिख डाला उसका अफसाना
हुस्न है जैसे एक कयामत और बला उसका अफसाना

शाख पे पत्तों के जीवन ने अक्सर दिल हैरान किया
पल-पल टूटने के खतरों से जूझता है उसका अफसाना

इस दुनिया में जाने कितने दर्द सुनाने आते हैं
मुश्किल है अब तय करना, कौन सा है किसका अफसाना

मंजिल की क्या फिक्र फकीरा, राह ही जिसका साथी है
चांद लिखता है रातों को आसमां पे उसका अफसाना

©RajeevSingh # love shayari