शायरी – दिल सुनता है तेरा नाम

दिल सुनता है तेरा नाम, दर्द बुनता है तेरा नाम

टूटने की ख्वाहिश लिए, आईना लेता है तेरा नाम

 

आसमान से सावन में टूटकर गिरता है तेरा नाम

आओ मेरी जान कभी, आहें पुकारती हैं तेरा नाम

दिल सुनता है तेरा नाम

  1. तुम तरसती निगाहों को नुमाया न करो
  2. साहिलों की तरह तुम मिले थे कहीं
  3. वो शायरी है, गजल है या फसाना है
  4. राज-ए-मुहब्बत इज़हार के काबिल नहीं होता
Advertisements

Leave a Reply