शायरी – इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां

love shyari next

आ जाओ, अब मौसम भी मस्त हो चला
खड़ा है तेरी राह में देखो एक दिलजला

आंखों की रोशनी से एक चांद बनाएं
आशियां में तारों सा हम जाएं झिलमिला

आओ तुझे बाहों में भरके प्यार करूं मैं
मिट जाए दोनों की तन्हाई का सिलसिला

इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां
तेरे हुस्न की आगोश में खोने को है चला

©RajeevSingh # love shayari

One thought on “शायरी – इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां”

  1. तेरी आंखें हैं मधुशाला इन पर शेर लिखूं या ग़ज़ल कहूं

Comments are closed.