शायरी – प्यासी निगाहों का कोई ऐतबार नहीं

love shayari hindi shayari

प्यासी निगाहों का कोई ऐतबार नहीं
कब मचल जाए कोई इख्तियार नहीं

दिल की आग कब भड़के, क्या जानें
कौन इस दुनिया में रहता बेकरार नहीं

इस जवानी में इतनी मुहब्बत है कि
कोई नहीं जो किसी का तलबगार नहीं

महसूस करे जो मेरे इस दर्दे दिल को
दुनिया में आज तक मिला वो प्यार नहीं

इख्तियार- अधिकार

©RajeevSingh # love shayari